आजादी की लड़ाई में हम किस बिंदु पर निर्णायक मार खा गए? जनसामान्य क्या समाधान करे? 

आजादी की लड़ाई में हम किस बिंदु पर निर्णायक मार खा गए और कैसे पिछले 71 सालो से हम यह मार लगातार खाते जा रहे है ? और समाधान ?  .   राजनैतिक विमर्श में "आजादी" लफ्ज के कोई मायने नहीं होते। यह सिर्फ एक नारा / लेबल है। इसीलिए "आजादी" शब्द को केंद्र में रखकर … पढ़ना जारी रखें आजादी की लड़ाई में हम किस बिंदु पर निर्णायक मार खा गए? जनसामान्य क्या समाधान करे? 

Advertisements

पारदर्शितापूर्ण लोकतांत्रिक प्रशासनिक व्यवस्था के लिए टी सी पी मीडिया पोर्टल ड्राफ्ट से सम्बंधित संदेह व उनका निवारण

 मित्रों, हमारे देश में पारदर्शिता पूर्ण जनशिकायत प्रणाली का अभाव रहने के कारण यहाँ कई समस्याओं को कई दशकों से रोज रोज झेलना एक उत्सव बन चुका है.  जैसे कि सड़कों पर व्याप्त गड्ढे के निवारण के लिए निविदा उस समय स्वीकारी जाती है जिससे सड़क मरम्मती के कार्य बिलकुल बारिश के ही शुरुआत के समय … पढ़ना जारी रखें पारदर्शितापूर्ण लोकतांत्रिक प्रशासनिक व्यवस्था के लिए टी सी पी मीडिया पोर्टल ड्राफ्ट से सम्बंधित संदेह व उनका निवारण

क्या भारत सरकार ही भारतीय सेना की छावनियाँ ख़त्म कर देंगी ?

भयानक ! जो 70 सालो में नही हुआ वो 4 साल में कर दिखाया !  भारतीय सेना ने 'पैसे बचाने के लिए रक्षा मंत्रालय को अपनी सभी छावनियाँ ख़त्म करने का प्रस्ताव दिया!  इसका मतलब हुआ देश भर के सबसे महत्वपूर्ण 'प्राइम' ठिकानों में मौजूद 2 लाख एकड़ से ज़्यादा ज़मीन स्थानीय प्रशासन को वापस करना! … पढ़ना जारी रखें क्या भारत सरकार ही भारतीय सेना की छावनियाँ ख़त्म कर देंगी ?

भारत के सामरिक व आर्थिक आत्मनिर्भर न होने के कारण ही चीन ने भारत को धमकी दी है. समाधान ?

दो दिन पहले चीन की ओर से पेशकश की गई है कि चीन-भारत-पाकिस्तान की त्रिपक्षीय समिट का आयोजन होना चाहिए. चीनी एंबेसडर कह रहे है भारत को चीन के साथ दोस्ती की 10 साल की एक संधि करनी चाहिए और हमने इसके लिए नई दिल्ली को एक ड्राफ्ट भी सौंपा है. उन्होंने कहा कि हम … पढ़ना जारी रखें भारत के सामरिक व आर्थिक आत्मनिर्भर न होने के कारण ही चीन ने भारत को धमकी दी है. समाधान ?

हमारा देश WTO और GATT के खतरनाक कृषि विरोधी संधियों से बाहर क्यों नहीं आ रहा?

 भारत को GATT और WTO अग्रीमेंट की शर्तें इन समूहों में सभी उपस्थित सदस्यों के दबाव में माननी पड़तीं हैं. अंतर्राष्ट्रीय संधियों में उन्ही देशों की शर्ते कमजोर देशों को माननी पड़तीं हैं जो सामरिक रूप से शक्तिशाली, तकनिकी रूप में सबसे मजबूत हो. उल्लेखनीय है कि भारत GATT का सदस्य 8 जुलाई 1948 और WTO … पढ़ना जारी रखें हमारा देश WTO और GATT के खतरनाक कृषि विरोधी संधियों से बाहर क्यों नहीं आ रहा?

पूरी दुनिया के लोकल मार्केटको बर्बाद करनेके लिए कुख्यात कंपनी वॉलमार्ट का भारतमें आगमन, प्रभाव व समाधान

 खुदरा बाजार की दुनिया की सबसे बड़ी अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट और भारत की सबसे बड़ी दिग्गज ई-कामर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के बीच 1.07 लाख करोड़ रुपये का विलय अन्य कारोबारी समझौते जैसा नहीं है. वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट की 77 फीसदी हिस्सेदारी 16 अरब डॉलर में खरीद ली है.   देश में खुदरा व्यापारियों (जिस क्षेत्र में देश में … पढ़ना जारी रखें पूरी दुनिया के लोकल मार्केटको बर्बाद करनेके लिए कुख्यात कंपनी वॉलमार्ट का भारतमें आगमन, प्रभाव व समाधान

हमारी सांस्कृतिक विरासत के संचालन का निजीकरण का खेल, हिन्दू धर्म का भविष्य व समाधान

लाल किले के संचालन का निजीकरण -- "विक्रीते करिणि किमंकुशे विवाद" !! अर्थात जब हाथी ही बेच दिया तो अंकुश का क्या झगड़ा ? .  भारत में लाखों लोग रोज रेलवे प्लेटफोर्म का इस्तेमाल करते है, और एक आवश्यक सेवा होने के कारण रेलवे का इस्तेमाल करना जरुरी है। इससे बचा नहीं जा सकता। मोदी … पढ़ना जारी रखें हमारी सांस्कृतिक विरासत के संचालन का निजीकरण का खेल, हिन्दू धर्म का भविष्य व समाधान